pandya rahul case: group of bcci former executives accuse current dispensation of double standards – बीसीसीआई के पूर्व अधिकारियों ने वर्तमान व्यवस्था पर दोहरे मानदंड का आरोप लगाया


मुंबई
भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के सीईओ राहुल जोहरी के यौन उत्पीड़न मामले में दोषमुक्त होने का जिक्र करते हुए बोर्ड के पूर्व पदाधिकारियों ने वर्तमान व्यवस्था पर खिलाड़ियों से जुड़े मामले में दोहरा मानदंड अपनाने का आरोप लगाया। इस समूह के सदस्यों ने शुक्रवार को बीसीसीआई के कामकाज पर विचार विमर्श करने लिए बैठक आयोजित की और इस पर गंभीर चिंता व्यक्त की।

इस समूह में पूर्व अध्यक्ष एन श्रीनिवासन के वफादार जैसे कि अनिरूद्ध चौधरी और निरंजन शाह शामिल हैं। इसके अलावा ग्रुप में 14 राज्य इकाइयों के प्रतिनिधि भी शामिल हैं। हार्दिक पंड्या और केएल राहुल को एक टीवी कार्यक्रम के दौरान महिलाओं पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने के लिए निलंबित करने के संदर्भ में उन्होंने बयान में कहा, ‘सदस्यों ने खिलाड़ियों से जुड़े मामले से निबटने में दोहरा मानदंड अपनाने पर हैरानी जताई। इन खिलाड़ियों को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया और उन्हें जांच लंबित रहने तक निलंबित कर दिया गया।’

इसमें कहा गया है, ‘…और सीईओ, जिन्हें निलंबित भी नहीं किया गया, से जुड़े मामले से निबटने में जांच प्रक्रिया मनमानी थी और यह बीसीसीआई संविधान का उल्लंघन था।’ बीसीसीआई के मुख्य कार्यकारी जोहरी को यौन उत्पीड़न के मामले में क्लीन चिट दी गई थी।





Source link