P Gopichand: indian badminton team now not depends on a single player says p gopichand – भारतीय टीम अब एक या दो खिलाड़ियों पर निर्भर नहीं: गोपीचंद


हैदराबाद

मुख्य राष्ट्रीय कोच पी. गोपीचंद ने मंगलवार को भारतीय बैडमिंटन की गहराई की सराहना करते हुए कहा कि टीम अब एक या दो खिलाड़ियों पर निर्भर नहीं है। भारतीय टीम ने ऑस्ट्रेलिया के गोल्ड कोस्ट में हाल में संपन्न कॉमनवेल्थ गेम्स में ऐतिहासिक टीम गोल्ड मेडल जीतने के अलावा बैडमिंटन में पांच और पदक जीते।

गोपीचंद ने यहां आयोजित सम्मान समारोह में कहा, ‘टीम गोल्ड मेडल ऐसी चीज है जिसके बारे में कभी नहीं सोचा गया। हमने कभी कल्पना नहीं की थी कि हम यह पदक जीत सकते हैं। पूरी टीम जिस तरह से खेली, उसके कारण ही यह संभव हो पाया।’ उन्होंने कहा, ‘मैं यह काफी गर्व के साथ कह सकता हूं क्योंकि अधिकतर समय एक या दो खिलाड़ी टीम में मजबूत थे, वर्षों से, शायद 30 या 40 साल से, भारतीय बैडमिंटन का इतिहास देखिए लेकिन आज स्थिति अलग है। आज टीम का प्रत्येक सदस्य योगदान दे रहा है।’

साइना नेहवाल और पीवी सिंधु के बीच हुए महिला एकल फाइनल के संदर्भ में गोपीचंद ने कहा कि यह गर्व की बात है कि राष्ट्रमंडल खेल जैसी बड़ी प्रतियोगिता का फाइनल दो भारतीयों के हुआ। उन्होंने कहा, ‘राष्ट्रमंडल खेलों जैसी बड़ी प्रतियोगिता के फाइनल में हमारी दो खिलाड़ियों के आमने सामने होने पर हमें गर्व होना चाहिए।’

महिला एकल का स्वर्ण पदक जीतने वाली साइना ने कहा कि उनके लिए टीम चैंपियनशिप जीतना अधिक संतोषजनक रहा। उन्होंने कहा, ‘मेरे लिए व्यक्तिगत चीजें मायने नहीं रखती लेकिन यह टीम चैंपियनशिप थी। इतना शानदार प्रयास करने के लिए मैं युगल खिलाड़ियों को बधाई देना चाहती हूं। यही कारण है कि एकल खिलाड़ी इतना अच्छा प्रदर्शन कर पाए। ’

सिंधु ने कहा कि इस बार वह सिल्वर मेडल जीतकर खुश हैं लेकिन उम्मीद करती हैं कि अगली बार वह बेहतर पदक जीतेंगी। महिला एकल फाइनल से जुड़े एक सवाल के जवाब में साइना ने कहा कि निश्चित तौर पर ऐसे खिलाड़ी के खिलाफ खेलना चुनौतीपूर्ण होता है जिसे आप जानते हैं।





Source link