Mahendra Singh Dhoni: mahendra singh dhoni completed 10 thousand runs for india – IND vs AUS: महेंद्र सिंह धोनी ने छुआ खास मुकाम, भारत के लिए खेलते हुए पूरे किए 10 हजार रन


ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेले गए पहले वनडे मैच में विकेटकीपर बल्लेबाज महेंद्र सिंह धोनी ने खास मुकाम छुआ। उन्होंने भारत के लिए खेलते हुए अपने 10 हजार रन पूरे कर लिए हैं।

नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated:

2019 वर्ल्ड कप: प्लेइंग-XI में धोनी? ये हैं कारण

धोनी/फाइल फोटो

हाइलाइट्स

  • ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ महेंद्र सिंह धोनी ने भारत के लिए खेलते हुए 10 हजार रन पूरे किए
  • धोनी के इंटरनैशनल 10 हजार रन पहले ही पूरे हो गए थे, लेकिन उनमें से 174 उन्होंने एशिया XI के लिए बनाए
  • धोनी ने पहले वनडे मैच में खाता खोलते ही यह मुकाम हासिल कर लिया
  • धोनी भारत के लिए दस हजार रन लगानेवाले 5वे बल्लेबाज बन गए

नई दिल्ली

भारतीय टीम के विकेटकीपर बल्लेबाज महेंद्र सिंह धोनी ने शनिवार को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेले गए पहले वनडे मैच में खास मुकाम हासिल कर लिया। इस मैच में खाता खोलते ही धोनी ने इंटरनैशनल मैचों में भारत के लिए खेलते हुए 10 हजार रन पूरे कर लिए। बता दें कि धोनी के इंटरनैशनल 10 हजार रन पहले ही पूरे हो चुके थे। लेकिन उनमें से 174 रन उन्होंने एशिया XI के लिए खेलते हुए बनाए थे।

पांचवे दस हजारी बने धोनी

धोनी से पहले सचिन तेंडुलकर (452 पारियों में 18426), सौरभ गांगुली (297 पारियों में 11221), राहुल द्रविड़ (314 पारियों में 10768), विराट कोहली (209 पारियों में 10235) ने भारत के लिए यह कारनामा किया है। धोनी ने यह मुकाम 279वीं पारी (भारत के लिए खेलते हुए) में हासिल किया।

2019 वर्ल्ड कप: प्लेइंग-XI में धोनी? ये हैं कारण

धोनी ने वनडे करियर में 49.74 की औसत से रन जुटाए हैं। वह 10 शतक और 67 अर्धशतक लगा चुके हैं। टेस्ट क्रिकेट से संन्यास लेने से पहले उन्होंने 90 मैच में 38.09 की औसत से 4876 रन बनाए। टेस्ट करियर में उन्होंने 6 शतक और 33 अर्धशतक जड़े। धोनी भारत के सबसे सफल विकेट कीपर भी हैं।

  

  • 2019 वर्ल्ड कप: प्लेइंग-XI में धोनी? ये हैं कारण

    महेंद्र सिंह धोनी, एक ऐसा नाम जो क्रिकेट के मैदान पर होता है तो उनके फैंस को भरोसा रहता है कि वह कुछ कमाल करेंगे। वह बल्ले से चलें या चलें लेकिन अपनी फुर्ती, फील्डिंग और अनुभव से हमेशा ही साथी क्रिकेटरों और टीम को फायदा पहुंचाते हैं। अगले साल होने वाले वर्ल्ड कप के लिए भारतीय टीम में धोनी प्लेइंग-XI में जगह बना पाएंगे या नहीं, इसे लेकर चर्चा जारी है।

  • 2019 वर्ल्ड कप: प्लेइंग-XI में धोनी? ये हैं कारण

    धोनी इकलौते कप्तान हैं जिन्होंने आईसीसी के तीनों टूर्नमेंट जीते हैं। उनकी कप्तानी में भारत ने आईसीसी टेस्ट रैंकिंग में पहला पायदान हासिल किया। साल 2004 में इंटरनैशनल क्रिकेट में पदार्पण करने वाले धोनी ने टीम इंडिया को ऊंचाइयों पर पहुंचाया। उनकी कप्तानी में भारत ने 2007 वर्ल्ड टी20, 2011 वर्ल्ड कप और 2013 में चैंपियंस ट्रोफी पर कब्जा जमाया।

  • 2019 वर्ल्ड कप: प्लेइंग-XI में धोनी? ये हैं कारण

    किसी भी टीम में युवा खिलाड़ियों के साथ अनुभव होना भी जरूरी है। धोनी टीम में वह लेकर आते हैं। धोनी को वर्ल्ड कप जीतने का अनुभव है।
    दबाव में धोनी धैर्य बनाए रखते हैं और वर्ल्ड कप जैसे बड़े टूर्नमेंट में ऐसे खिलाड़ी का टीम में होना बहुत फायदे की बात है। वह साथी खिलाड़ियों को भी वह धैर्य देते हैं। धोनी के पास 330 से ज्यादा वनडे इंटरनैशनल मैचों का अनुभव है। उनके नाम वनडे में 10 हजार से ज्यादा रन दर्ज हैं।

  • 2019 वर्ल्ड कप: प्लेइंग-XI में धोनी? ये हैं कारण

    आज भी आप मैदान पर देखें तो अहम मौकों पर कोहली धोनी से सलाह लेते नजर आते हैं। फील्ड सेट करनी हो या फिर डीआरएस लेना हो, धोनी की सलाह काफी मायने रखती है। धोनी कई बार कोहली को भी निर्देश देते देखे जा सकते हैं। जहां तक DRS की बात है, इसमें धोनी के फैसले इतने सही साबित होते हैं कि कई बार इन्हें Dhoni Review System तक कहा जाता है।

  • 2019 वर्ल्ड कप: प्लेइंग-XI में धोनी? ये हैं कारण

    धोनी एक बार नहीं, बल्कि कई मौकों पर साबित कर चुके हैं कि वह इस समय भारत के सर्वश्रेष्ठ विकेटकीपर हैं। धोनी को वेस्ट इंडीज और ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ होने वाली टी20 सीरीज के लिए भारतीय टीम में शामिल नहीं किया गया लेकिन अगले ही दिन विंडीज के खिलाफ सीरीज के तीसरे वनडे में उन्होंने न सिर्फ शानदार कैच लपके बल्कि स्टंपिंग में भी कमाल दिखाया। उनकी फुर्ती और तेजी के आगे सब कुछ फीका रह जाता है।

  • 2019 वर्ल्ड कप: प्लेइंग-XI में धोनी? ये हैं कारण

    युवा विकेटकीपर ऋषभ पंत को धोनी का उत्तराधिकारी माना जा रहा है। वह टीम के साथ बतौर बल्लेबाज भी खेल चुके हैं। इतना ही नहीं, धोनी को टी20 टीम से बाहर करने के बाद पंत को मुख्य विकेटकीपर के तौर पर रखना इस पर मुहर लगाता है। यह भी साफ है कि धोनी 2020 में ऑस्ट्रेलिया में होने वाले वर्ल्ड टी20 में टीम के साथ नहीं होंगे। ऐसे में पंत धोनी के साथ रहकर काफी कुछ सीख सकते हैं।

  • 2019 वर्ल्ड कप: प्लेइंग-XI में धोनी? ये हैं कारण

    2011 के फाइनल में भी उन्होंने शानदार पारी खेली थी। 91 रनों की उनकी पारी में छक्का लगाकर भारत को जीत दिलाने का जो कारनामा उन्होंने किया था वह अब भी क्रिकेट प्रेमियों के जेहन में ताजा है। उनके फैंस को उम्मीद रहती है कि टीम को जब भी उनकी जरूरत होगी तो वह जरूर योगदान देते हैं।

  • 2019 वर्ल्ड कप: प्लेइंग-XI में धोनी? ये हैं कारण

    मुख्य चयनकर्ता एमएसके प्रसाद ने भी इस बात को माना था कि धोनी 2019 विश्व कप तक टीम के साथ बने रहेंगे क्योंकि इस समय उनसे बेहतर विकेटकीपर टीम के पास नहीं है। उन्हें भले ही वर्ल्ड कप से पहले टी20 सीरीज के लिए टीम में जगह नहीं दी गई लेकिन वह वनडे में टीम के साथ रहेंगे, ऐसी पूरी उम्मीद है।


 

पाइए क्रिकेट समाचार(Cricket News in Hindi)सबसे पहले नवभारत टाइम्स पर। नवभारत टाइम्स से हिंदी समाचार (Hindi News) अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App और रहें हर खबर से अपडेट।

Cricket
News
 से जुड़े हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए NBT के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें
Web Title mahendra singh dhoni completed 10 thousand runs for india

(Hindi News from Navbharat Times , TIL Network)





Source link