ISI का प्लान PK, सईद-चावला को पंजाब और कश्मीर में आतंक की कमान

आई.एस.आई. ने मिशन पी.के. (पंजाब-कश्मीर) शुरू किया है। इसके तहत लश्कर के चीफ हाफिज सईद और पाकिस्तान सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के महासचिव गोपाल सिंह चावला को पंजाब और जम्मू-कश्मीर में बड़े आतंकी हमले करवाने का जिम्मा सौंपा गया है। आई.एस.आई. ने नई रणनीति के तहत अब खालिस्तानी आतंक की कमान चावला को सौंपी है। चावला को इसको संगठित करने का काम दिया गया है। इसका कारण यह है कि चावला के हाफिज सईद के साथ अच्छे संबंध हैं। हाफिज सईद काफी समय से कश्मीरी और खालिस्तानी आतंकवादियों को मिल कर काम करने पर जोर दे रहा है। हाफिज सईद का इरादा जम्मू-कश्मीर के साथ-साथ पंजाब में सेना के ठिकानों पर बड़े आत्मघाती हमले करवाने का है। वह पंजाब में दोबारा पठानकोट और दीनानगर जैसे हमले करवाना चाहता है।

सूत्रों का कहना है कि पंजाब के पुराने आतंकियों, गैंगस्टरों और तस्करों को आई.एस.आई. ने इसके लिए तैयार किया है। गोपाल सिंह चावला ने बब्बर खालसा के चीफ वधावा सिंह बब्बर और खालिस्तान जिंदाबाद फोर्स के चीफ रणजीत सिंह नीटा के साथ मिल कर इनके पंजाब और जम्मू-कश्मीर में सक्रिय स्लीपिंग सैल को सक्रिय करने को कहा है।

पिछले साल 19 अक्तूबर को चावला ने जारी किया था खालिस्तान के पक्ष में वीडियो

चावला ने पिछले साल 19 अक्तूबर को एक वीडियो जारी कर यह दावा किया था कि वह खालिस्तान के लिए चल रहे संघर्ष का हिस्सा है। इस वीडियो में चावला ने प्रधानमंत्री मोदी के खिलाफ गलत शब्दावली का भी प्रयोग किया है।

आई.एस.आई. हैंडलर अब्बास राणा पंजा साहिब गुरुद्वारा में देखा गया

आई.एस.आई. हैंडलर अब्बास राणा कनाडा में खालिस्तान आतंकियों की मदद करता है। कनाडा में इस समय 30 आतंकी मॉड्यूल चल रहे हैं। इनको राणा ने तैयार किया है। अब्बास राणा पिछले 3 सालों से कनाडा में है। भारतीय खुफिया एजैंसियों को इस बात की जानकारी मिली है कि अब्बास राणा ही कनाडा से सिख जत्थे को पाकिस्तान लेकर आया है। इनमें कुछ लोगों को आई.एस.आई. ने लाहौर मे विशेष ट्रेङ्क्षनग भी दी
है। राणा भेष बदलने में माहिर है। कभी-कभी उसे सिख पहरावे में देखा गया है।

पंजाबी सिख संगत संगठन को कश्मीरी आतंकियों की मदद का जिम्मा

चावला ने अब एक नया संगठन पंजाबी सिख संगत बनाया है। चावला इसका चेयरमैन है। हाफिज सईद ने पिछले साल 7 अप्रैल को लाहौर में अपने राजनीतिक विंग मिली मुस्लिम लीग की रैली में चावला की मौजूदगी में यह ऐलान किया था कि अब पंजाबी सिख संगत और मिली मुस्लिम लीग मिल कर काम करेंगे। इनका मकसद कश्मीर की आजादी और खालिस्तान बनाना होगा।
इसके साथ पंजाबी सिख संगत विदेश में कश्मीरी आतंकी संगठनों के साथ मिल कर काम करेगी। गोपाल सिंह चावला ने भी इस रैली मे यह कहा था कि दोनों का मकसद आजादी है। दोनों का दुश्मन भारत है। दोनों मिल कर काम करेंगे। खुफिया सूत्रों का कहना है कि अगस्त की रैली के बाद से यह मिल कर काम कर रहे हैं।