सड़कों पर उतरे किसान

जालंधर: देशभर के किसान अपनी मांगों को लेकर 1 से 10 जून तक शहरों में दूध और सब्जियों की सप्लाई बंद रखेंगे। इस देशव्यापी आंदोलन में 172 किसान जत्थेबंदियां हिस्सा ले रही हैं। आंदोलन को भारतीय किसान यूनियन (राजेवाल) लीड करेगी। किसान संगठनों की ओर से सप्लाई बंद करने की कॉल का असर वीरवार को खन्ना की सब्जी मंडी में देखा गया। लोग जरूरत की सब्जियों को बल्क में खरीदते दिखे। आज से शहरी लोगों की मुश्किलें बढ़ सकती हैं क्योंकि किसानों ने अपनी विभिन्न मांगों को लेकर 10 जून तक शहरों में दूध व सब्जी की सप्लाई बंद करने की घोषणा की है। सब्जी मंडियां चाहे खुली रहेगीं, परन्तु सब्जी मंडी का कारोबार जरूर प्रभावित होगा। किसान संगठनों का कहना है कि इस दौरान किसान भी शहरों से कोई चीज नहीं खरीदेंगे। हालांकि यह राहत जरूर है कि अगर शहरी लोग गांव में दूध, सब्जी खरीदने आते हैं तो उन्हें यह उपलब्ध करवा दिया जाएगा। कर्जमाफी और सभी फसलों की खरीद यकीनी बनाने व लागत पर 50 फीसद लाभ आदि की मांगों को लेकर किसानों ने दूध, सब्जी की सप्लाई बंद करने का फैसला किया है। संगठन गांव-गांव में मुनादी कर किसानों को लामबंद करने में जुटे हैं।