वैज्ञानिकों ने मकड़ी के रेशम से बनाया माइक्रोकैप्सूल

जिनेवा – वैज्ञानिकों की एक टीम ने स्वास्थ्य के क्षेत्र में शोध करते हुए मकड़ी के रेशम से बने माइक्रोकैप्सूल का आविष्कार किया है जिससे टीकों को सीधे प्रतिरक्षा कोशिकाओं के दिल में पहुंच सकते हैं। वैज्ञानिकों ने बताया कि ये सिंथेटिक रेशम बायोपॉलिमर हल्के, जैव-संगत, गैर विषैले और हल्के और गर्मी से अवक्रमण के लिए अत्यधिक प्रतिरोधी है। कैंसर से लडऩे के लिए, शोधकर्ता तेजी से टीकों का उपयोग करते हैं जो ट्यूमर कोशिकाओं की पहचान और नष्ट करने के लिए प्रतिरक्षा प्रणाली को उत्तेजित करते हैं। हालांकि, वांछित प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया हमेशा गारंटी नहीं है। प्रतिरक्षा प्रणाली पर विशेष रूप से टी लिम्फोसाइट्स पर टीकों की प्रभावकारिता को मजबूत करने के लिए, कैंसर कोशिकाओं के शोधकर्ताओं के पता लगाने में विशेष शोधकर्ताओं ने इस नए मकड़ी रेशम माइक्रोकैप्सूल विकसित किए हैं।