लुधियाना एंफ्यूलेंट ट्रीटमेंट सोसायटी चुनाव का दंगल आम सहमति से समाप्त

लुधियाना : लुधियाना एंफ्यूलेंट ट्रीटमेंट सोसायटी (लैट्स) चुनाव का दंगल आम सहमति से सोमवार को समाप्त हो गया। इसमें फास्टनर मेन्यूफेक्चरर एसोसिएशन के अध्यक्ष नरिंदर भमरा को सीईओ, फीको प्रधान गुरमीत सिंह कुलार को सचिव, चार डायरेक्टरों में राजन गुप्ता, चंद्रप्रकाश सभ्रवाल, रजिंदर सरहाली और मनजिंदर सचदेवा को आम सहमति से चुना गया। साथ ही लंबे समय से चली आ रही कशमकश समाप्त हुई और इंडस्ट्री दो भागों में बंटने से बच गई। उद्योगपतियों ने इसे इंडस्ट्री के लिए लाभदायक बताया और कहा कि इससे बेहतर काम होगा। इस आम सहमति के लिए कई नामी चेहरों की ओर से नामंकन वापस लेकर एक बड़ा योगदान दिया गया है। ज्ञात हो कि हाल ही में आम सहमति से चरणजीत सिंह विश्वकर्मा को सीईओ चुना गया था, जबकि सचिव और डायरेक्टर्स के लिए भी आम सहमति बन गई थी। पर एक गुट ने चुनाव प्रक्रिया पर सवाल खड़ा कर प्रशासन को ही कठघरे में खड़ा कर दिया था।  इस चुनाव को लेकर हाईकोर्ट में जाने तक उद्यमी तैयार हो गए थे। ऐसे में दबाव के चलते इस चुनाव को रद करना पड़ा। दो हजार सदस्य वाली है संस्था लैट्स के दो हजार से अधिक सदस्य हैं और इसमें लुधियाना के साथ-साथ जालंधर, मोहाली, अमृतसर के सदस्य भी शामिल हैं। लैट्स की ओर से जेवीआर टेक्नोलॉजी संग अनुबंध कर चार लाख लीटर पानी को ट्रीट कर दोबारा इस्तेमाल लायक बनाया जाता है। आने वाले समय में यह क्षमता कम हो सकती है, क्योंकि जालंधर में इंडस्ट्री के लिए अलग से सीईटीपी लगाने की तैयारी की जा रही है।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*