मिठाई कई बीमारियों से लड़ने में मदद करता है।

कुरुक्षेत्र, -डेंगू के मरीजों के लिए बड़ी राहत की खबर है। अब एक खास बर्फी खाने से बीमारी के दौरान प्ले ट्लेट्स का गिरना ही नहीं रुकेगा, बल्कि यह तेजी से बढ़ेगा। यह है पपीते की बर्फी। यह बर्फी कच्चेन पपीते से तैयार की जाती है। खाने में स्वायदिष्ट यह मिठाई कई बीमारियों से लड़ने में मदद करता है। हिमाचल प्रदेश के न्यू आजीविका समूह ने डेंगू को मात देने वाली यह खास मिठाई तैयार की है। यह बर्फी डेंगू से ग्रस्तड मरीज के खून में गिरते प्लेटलेट्स को बढ़ाने में बेहद असरदार है। औषधीय गुण के कारण कच्चेम पपीते से तैयार की जाने वाली बर्फी बेहद खास है। यह डेंगू के साथ अन्य बीमारियों में भी काफी राहत देती है। हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने 1 नवंबर को हमीरपुर उत्सव में इसे लांच किया। दीपावली के अवसर पर समूह ने 10 क्विंटल पपीते की बर्फी को बेचा।हिमाचल प्रदेश के जिला हमीरपुर के खंड नादौन के न्यू आजीविका विकास ग्रुप की प्रधान रीना चंदेल के मुताबिक डेंगू में प्लेटलेट्स गिरने की समस्या में यह बर्फी दवा से भी तेज काम करेगी। इसे डेंगू के लगातार बढ़ते प्रकाेप को ध्याहन में रखकर बनाया गया है। उन्हों ने बताया कि कच्चे पपीते में एक एमिनिया तरल पदार्थ होता है जो डेंगू और पेट से संबंधित बीमारियों के लिए बेहद ही लाभकारी होता है। इस बर्फी की खासियत है कि इसको तैयार करने में न तो किसी तेल या घी का इस्तेमाल किया जाता है और न ही दूध का। इसको तैयार करने में कच्चेत पीपते के साथ चीनी, नारियल का बुरादा, केवड़ा व इलाइची का उपयोग किया जाता है। समूह की सचिव सुनीता देवी ने बताया कि कच्चे पपीते को तोड़ कर रात भर रखा जाता है। इससे पपीते का दूध उसमें ही रहता है। कच्चे पपीते के दूध में एक खास तरह का पदार्थ होता है। जो प्लेटलेट्स, हृदय व पेट के लिए बहुत अच्छा होता है। इसके बाद इसे कद्दूकस कर पकाया जाता है और बर्फी तैयार होती है। समूह की प्रधान रीना चंदेल का कहना है कि गेहूं के सफेद भाग से हलवे के लिए आटा तैयार किया जाता है। इसके लिए गेहूं की ऊपरी परत को उतारा जाता है।