भाजपा को और एक साल पीडीपी के साथ रहना चाहिए था: आजम

लखनऊ – समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता व पूर्व कैबिनेट मंत्री आजम खां ने कश्मीर में पीडीपी-भाजपा गठबंधन टूटने को ‘अवसरवादिता’ करार देते हुए कहा कि आतंकवादी जब जवानों के सिर काटकर ले गए, तब भाजपा ने समर्थन वापस क्यों नहीं लिया। आजम ने कहा कि भाजपा को अगले लोकसभा चुनाव तक पीडीपी के साथ रहना चाहिए था। समर्थन वापसी का यह समय ठीक नहीं था। भाजपाइयों ने तीन वर्ष तक कश्मीर में खूब मौज मनाई और अब, जब लोकसभा चुनाव में कुल 6 महीने ही हैं, तो लोगों को ठगने के लिए उन्हें देशभक्ति की याद आ गई। कश्मीर में सेना द्वारा पत्थरबाजों से निपटने के लिए पत्थरबाजों के ही साथियों को ढाल बनाए जाने के सवाल पर आजम ने कहा कि केंद्र और राज्य में सरकार भाजपा की थी तो शिकायत किससे कर रहे हैं। वहीं, शहीद औरंगजेब के घर आर्मी चीफ के दौरे पर सवाल खड़ा करते हुए आजम ने कहा कि बोर्डर पर रोज सैनिक शहीद होते हैं, लेकिन आर्मी चीफ तो क्या, सेना का कोई छोटा या बड़ा अफसर भी उनके घर नहीं जाता है। आजम ने इसे बाकी शहीदों का अपमान बताया।