भले ही ड्रैगन डोर बेचने वालों पर शिकंजा कसा हुआ है

ड्रैगन डोर की बिक्री अब नए नाम लड्डू व खजूर पर होने लगी है। चोरी छुपे यह ड्रैगन डोर पांच सौ रुपये प्रति आधा किलो गट्टू बिक रहा है। पुलिस ने भले ही ड्रैगन डोर बेचने वालों पर शिकंजा कसा हुआ है। बावजूद इसके गट्टू नए नामों से चोरी छुपे आर्डर पर बिक रहे हैं। ड्रैगन डोर का मुकाबला करने के लिए बाजार में 12 तारी व 9 तारी वाली देसी डोर आ चुकी है पर इसकी बिक्री के लिए दुकानदार ग्राहकों के इंतजार में बैठे हुए है। जब शहर में काइट व डोर वाली दुकानों में देखा तो वहां पर बरेली की बारह व नौ तारी के डोर की चरखी और अड्डे की बनी देसी डोर के पिन्ने भी बिकने के लिए रखे हुए है।
सूत्रों के मुताबिक अधिकतर गट्टू एक कंपनी के नाम के बिक रहे हैं। यह कंपनी दिल्ली की बताई जा रही है। आधा किलो का यह चाइनीज गट्टू बाजार में चोरी छुपे 500 से 600 रुपये में बिक रहा है। गट्टू लेने के लिए पहले जान पहचान का आर्डर लिया जाता है। उसके बाद गट्टू की सप्लाई होती है। पतंग व डोर का व्यापार करने वाले दुकानदारों का कहना है कि प्रशासन को सप्लाई लाइन को बंद करना चाहिए।
बाजार में ड्रैगन डोर का मुकाबला करने के लिए बरेली की 12 तारी व 9 तारी की डोर आई है। यह डोर 50 रुपये गॉट के हिसाब से बिक रही है। वही देसी डोर 40 रुपये के हिसाब से बिक रही है। काइट एंड डोर विक्रेता कृपाल ¨सह ने कहा कि पतंग व डोर का सीजन अब सिर्फ नाम का सीजन रह गया है। ड्रैगन डोर के आने के बाद हर वर्ष काइट व डोर का व्यापार कम हुआ है। बाजार में दो गोट से लेकर 12 गोट तक की चरखी आई हुई है।