पंजाब में फिर पनप सकता है उग्रवाद

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेंद्र सिंह ने आज केन्द्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात कर पंजाब में फिर से आतंकवाद के उभरने की आशंका बाबत बातचीत की। साथ ही कहा कि इससे राज्य की शांति और स्थिरता को एक बार फिर से खतरा है। इससे निपटने के लिए एक व्यापक रणनीति बनाने का आग्रह किया। इस मौके पर कैप्टन अमरेंद्र सिंह ने राज्य में उभर रहे उग्रवाद से निपटने के लिए एक सर्वव्यापी रणनीति तैयार करने की आवश्यकता पर बल दिया। साथ ही खुफिया तंत्र को और मजबूत बनाने का सुझाव दिया। कैप्टन ने केंद्र सरकार को बताया कि कनाडा, यू.के., यू.एस.ए., इटली व जर्मनी में बैठे विदेशी संचालक पंजाब में उग्रवाद के पुनरोत्थान हेतु गतिविधियों में लगे हुए हैं। इसके विरुद्ध कार्रवाई करने की जरूरत है।

बैठक में कैप्टन अमरेंद्र सिंह ने राज्य की स्थिरता और शांति को भंग करने के उद्देश्य से सोशल मीडिया पर चल रही गतिविधियों से निपटने की आवश्यकता पर भी जोर दिया। पंजाब सरकार ने अपना पक्ष रखा कि राज्य सरकार द्वारा शुरू किए गए कार्यक्रम ‘अपनी जड़ों से जुड़ो’ को और मजबूत करने से भी इस प्रकार की गतिविधियों पर नियंत्रण पाने में सहायता मिलेगी। बैठक के दौरान गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने पुलिस बल आधुनिकीकरण योजना, एम.पी.एफ . योजना के अंतर्गत राज्य की मांगों पर गौर करने पर सहमति जताई है। राज्य की सुरक्षा संबंधी ङ्क्षचताओं का हवाला देते हुए मुख्यमंत्री ने पुलिस बल के आधुनिकीकरण में केन्द्रीय सहायता की मांग को भी फिर से दोहराया।

मुख्यमंत्री ने कहा कि जम्मू-कश्मीर और 8 उत्तर-पूर्वी राज्यों की तर्ज पर एम.पी.एफ . योजना के अंतर्गत पंजाब को वर्ग-ए राज्य का दर्जा देकर 90:10 केन्द्र-राज्य हिस्सेदारी आधारित वित्तीय सहायता दी जानी चाहिए। उन्होंने सीमा पार आतंकवाद और नशों, हथियारों, विस्फोटक पदार्थों के प्रवाह जैसी चुनौतियों के लिए राज्य की विशेष शाखा की मजबूती हेतु एम.पी.एफ . योजना के अंतर्गत पंजाब के लिए अतिरिक्त फंड के आबंटन की मांग भी रखी।

विदेशों में चल रहे मॉड्यूल पर चर्चा, कनाडा में वांटेड आतंकियों को वापस लाने की मांग
कैप्टन अमरेंद्र सिंह ने कनाडा और यू.के. में चल रहे आतंकी मॉड्यूल के बारे में केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह के साथ बात की है। साथ ही उन्होंने पंजाब में पकड़े गए आतंकियों से हुई पूछताछ से हासिल जानकारी शेयर करते हुए कनाडा में रह रहे वांटेड आतंकियों को वापस लाने की प्रक्रिया तेज करने को कहा है।