पंजाब को विशेष दर्जा दिलाने की मांग पर एकजुट हुए आप नेता,केंद्र से की मांग

आम आदमी पार्टी पंजाब ने राज्य के लिए विशेष राज्य का दर्जा मांगते हुए पंजाब को विशेष श्रेणी सूची में शामिल करने पर जोर देते 15वें वित कमीशन की हवाला शर्तों पर पुन-निर्धाण की मांग की है।

संयुक्त प्रैस कांफ्रैंस दौरान आप नेता सुखपाल खैहरा तथा कंवर संधु ने ये मांग की है। संधू ने बताया कि उन्होंने केंद्रीय वित्र मंत्री अरुण जेतली को दो पत्र लिख कर तर्क के आधार पर यह मांगे रखी हैं। इतना ही नहीं संधू ने बताया कि उन्होंने कैंप्टन अमरेंद्र सिंह को भी पत्र लिख कर पंजाब के लिए विशेष दर्जे की मांग की हैं। इसके साथ ही इस मुद्दे पर विचार-विमर्श के लिए उन्होंने सर्व पार्टी बुलाने की मांग भी की है।

संधू ने दलील दी है कि विशेष राज्य का दर्जा और इसकी स्पैशन कैटेगरी स्टेटस सूची में शामिल करने के लिए पंजाब का केस आंधरा प्रदेश जैसे सूबे की उपेक्षा कहीं ज्यादा मजबूत है। आप नेताओं ने कहा कि अफसोस की बात है कि 1966 के पुन-गठन के उपरांत किसी ने भी इस मुद्दे पर आवाज बुलंद नहीं की। इसी तरह यदि 15वें वित्त कमीशन की हवाला शर्तों को पुन निर्धारण न किया गया तो केंद्र के पास फंड़ों के अधिकारों पर पंजाब की कर्नाटक तथा केरला जैसे सूबे की उपेक्षा बड़ा झटका लगेगा। संधू ने कहा कि जिस तरह पंजाब वित्तीय तथा आर्थिक संकट का सामना कर रहा है,उसके समाधान के लिए अहम मांगों को मजबूती से उठाने की जरुरत है। वहीं खैहरा ने कहा कि पंजाब से केंद्र में मंत्री हरसिमरत कौर बादल और विजय सांपला को भी पंजाब का मुद्दा उठाना चाहिए नहीं तो इस्तीफा दे देना चाहिए।

पंजाब पूरे भारत के लिए अनाज पैदा करता है इसलिए उम्मीद है कि केंद्र सरकार जरूर इन मांगे पर गौर करेगी। दिल्ली में उनाव और कठुआ रेप केस के खिलाफ अनशन पर बैठे दिल्ली नैशनल विमन कमीशन की चेयरपर्सन के समर्थन में खैहरा ने कहा हम उन्हें ज्वांइन करेंगे। कैप्टन अमरेंद्र सिंह की पाक दोस्त अरूसा आलम के साथ-साथ चाड्डा सुसाइड केस में डीजीपी चट्टोपाध्याय का नाम भी शामिल किया है जिससे साफ दिखआई देता है कि यह कोई पुलिस की अंदरूनी लड़ाई नहीं बलकि उन्हें फंसाया जा रहा है इसलिए मुख्यमंत्री इस मुद्दे में सीबीआई जांच करवाए।