नया साल दस्‍तक देने की कगार पर है, मगर बीतता साल जाते-जाते देश को एक और दर्द दे गया

नई दिल्‍ली, जेएनएन। नया साल दस्‍तक देने की कगार पर है, मगर बीतता साल जाते-जाते देश को एक और दर्द दे गया। गुरुवार आधी रात मुंबई के कमला मिल्‍स कम्‍पाउंड में लगी आग ने तेजी से इतना विकराल रूप धारण कर लिया कि कई लोग काल के गाल में समा गए और जो जिंदा बच गए उन्‍हें ताउम्र के लिए एक ऐसे खौफनाक मंजर की याद दे गए जो आंखों से तो ओझल हो जाएगा मगर दिलों-दिमाग की गहराई में छिपा हमेशा उन्‍हें डराता रहेगा।कमला मिल्‍स कम्‍पाउंड में लगी आग में कई रेस्‍टोरेंट, पब धूं-धूं कर जलने लगे, जहां का मंजर बेहद खुशनुमा था। कोई अपने परिवार, दोस्‍तों के साथ नए साल का जश्‍न मनाने आया था तो कोई अपने जन्‍मदिन की पार्टी। मगर आग सभी की खुशियों को स्‍वाहा कर गया। कुल 14 लोगों की मौत खबर सामने आई है, जिसमें 28 साल की खुश्‍ाबू मेहता भी शामिल हैं। वह अपना जन्‍मदिन मनाने के लिए दोस्‍तों के साथ वहां एक रेस्‍टोरेंट में आई थीं, मगर उन्‍हें क्‍या पता था कि उनका जन्‍मदिन ही मरण दिन बन जाएगा। हादसे के दौरान वह अपने दोस्‍तों के साथ एक बाथरूम में बंद हो गईं, जहां से बाद में सिर्फ लाशें ही निकलीं।मुंबर्इ में लगी यह आग गुस्‍से के रूप में दिल्‍ली समेत पूरे देश में फैल गई है और इस हादसे के लिए बीएमसी सवालों के कठघरे में खड़ी हो गई है। पीएम नरेंद्र मोदी, कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी समेत कई राजनीतिक हस्तियों ने इस हादसे पर शोक जताते हुए पीड़ितों के परिवारों के प्रति सहानुभूति व्‍यक्‍त की है। वहीं लोक सभा में भी जोर-शोर से यह मुद्दा उठाया गया और पूरे हादसे की न्‍यायिक जांच के साथ दोषियों को सजा देने की मांग की गई। हर कोई इस हादसे के लिए बीएमसी को जिम्‍मेदार ठहरा रहा है।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*