तबाही की आंधी ने छीन ली सैंकड़ों जिंदगियां

पिछले 2 दिनों में उत्तर भारत में आंधी और तूफान ने भयंकर तबाही मचाई। यूपी, राजस्थान, उत्तराखंड, मध्य प्रदेश व बंगाल में उठे बवंडर और तेज बारिश के चलते 100 से ज्‍यादा लोगों की मौत हो गई व 200 के करीब घायल हो गए। इस भयंकर तूफान के कारण सैंकड़ों लोग बेघर हो गए। यह आंधी-तूफान अपने साथ पेड़, बिजली के खंभों को भी उड़ा ले गया। वहीं इस हादसे की कुछ दर्दनाक तस्वीरें भी सामने आई हैं।

बुधवार रात आए रेतीले तूफान और बारिश ने यूपी और राजस्थान में तबाही मचा दी। 100 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चली आंधी से यूपी में सर्वाधिक 92 लोगों की जानें गई व 90 घायल हुए। अकेले आगरा में 50 मौतें हुईं। इसके अलावा बरेली, पीलीभीत, चित्रकूट, रायबरेली, उन्नाव, मथुरा, अमरोहा, कन्नौज, बांदा, संभल और मिर्जापुर में 1-1 लोगों की मौत होने की खबर आई।

वहीं राजस्थान में बीकानेर, भरतपुर, अलवर और धौलपुर में सबसे ज्यादा नुकसान पहुंचा। भरतपुर में 19 लोगों की मौत हो गई वहीं अलवर में मौत का आंकड़ा 5 तक पहुंच गया। मौसम विशेषज्ञों के अनुसार बंगाल की खाड़ी से आ रही हवाओं और वेस्टर्न डिस्टर्बेंस के बीच टकराव हुआ। इसका नतीजा दिल्ली, उत्तर प्रदेश, राजस्थान, पंजाब, हरियाणा, मध्य प्रदेश और उत्तराखंड में तूफान के रूप में देखने को मिला।

तूफान इतना भयंकर था कि जगह जगह पेड़ गिर गए जिस कारण जान-माल का भारी नुकसान हुआ। कई इलाकों में बिजली और यातायात बुरी तरह से प्रभावित हुए। रेतीले तूफान का असर पंजाब में भी दिखने को मिला। राज्य में किसानों की खड़ी फसल तूफान की भेंट चढ़ गई।

मौसम विभाग के मुताबिक अगले 72 घंटों के दौरान उत्तर प्रदेश और राजस्थान के कुछ हिस्सों में फिर से धूल भरी आंधी आ सकती है। इन इलाकों में चक्रवात की स्थिति बन रही है। इसका असर राजस्थान के सीमावर्ती जिलों में पड़ सकता है।
मौसम विभाग के अनुसार, जम्मू कश्मीर, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड के कुछ इलाकों में तेज हवाएं चल सकती हैं। इसके अलावा देश के पूर्वी इलाकों जैसे- पश्चिम बंगाल, असम, मेघालय, नागालैंड, मनिपुर, मिजोरम, त्रिपुरा, ओडिशा और केरल में धूल भरी तेज आंधी और तेज बारिश होने की आशंका है।