डेयरी में नकली दूध तैयार किया जा रहा है।

माझे की धरती में कुछेक लोग अपने स्वार्थ के लिए नकली दूध तैयार कर लोगों की सेहत से खिलवाड़ कर रहे हैं। जिला अमृतसर के जिला सेहत अधिकारी डा. लखबीर ¨सह भागोवालिया ने बताया कि विभाग को सूचना मिली थी कि तरनतारन के हरिके स्थित एक डेयरी में नकली दूध तैयार किया जा रहा है। उनके नेतृत्व में फूड सेफ्टी अधिकारी सिमरनजीत ¨सह व अश्वनी कुमार ने गांव हरिके स्थित बस स्टैंड के समीप बनी त¨जदर डेयरी में जाकर छापेमारी की। इस दौरान उनको वहां पर नकली दूध बनाने वाला सामान बरामद हुआ। यह डेयरी ते¨जदर ¨सह पुत्र लखबीर ¨सह निवासी हरिके चला रहा था। इस दौरान नकली दूध बनाने के प्रयोग में की जाने वाली आठ बोरिया मल्टोडेक्स पाउडर भी बरामद हुआ है।
इसी तरह चार किलोग्राम रिफाइंड तेल व पांच किलो बीआर केमिकल बरामद किया। यह बीआर केमिकल दूध की फैट बनाने के काम आती है। टीम ने इस डेयरी से करीब तीन ¨क्वटल तैयार किया दूध भी जब्त किया। जिसको टीम ने नष्ट कर दिया। डेयरी से टीम ने करीब छह सैंपल लिए जिसमें तीन सेंपल दूध तथा एक सैपंल मल्टोडेक्स, एक सेैपल बीआर व रिफाइंड तेल का लिया। इन सैंपलों की जांच के लिए खरड़ की लेब में भेजा गया।
15 क्विंटल नकली दूध रोज सप्लाई करता था डेरी संचालक
उन्होंने बताया कि पूछताछ में डेयरी संचालक ने बताया कि वी रोजाना करीब दस से 15 ¨क्वटल दूध विभिन्न जगहों पर सप्लाई करता है। पता चला है कि यह डेयरी वाला बलदेव डेयरी तरनतारन रोड मुल्लापुर स्थित डेयरी में भी सप्लाई करता था। इसके अलावा वह लुधियाना में दूध सप्लाई करता था। टीम ने बलदेव डेयरी व अन्य डेयरी से भी दूध के सेंपल भरे है।
टीम ने त¨जदर डेयरी को सील कर दिया है। आगामी रिपोर्ट आने के बाद आगामी कार्रवाई की जाएगी।
सेहत अधिकारी ने बताया कि नकली प्रोडक्ट बनाने वालों से सख्ती के साथ निपटा जाएगा। किसी भी व्यक्ति को सेहत के साथ खिलवाड नहीं किया जाएगा। माझे में नकली दूध इन केमिकलों के साथ बनाने का यह प्रथम मामला है।