जिला पुलिस ने गत रात्रि अवैध माइनिंग के विरुद्ध कार्यवाही

जिला पुलिस ने गत रात्रि अचानक चैकिंग में 22 ट्रक-टिप्परों को अपनी हिरासत में ले लिया ताकि उन टिप्परों की गहराई से जांच की जा सके कि कहीं ये अवैध माइनिंग में संलिप्त तो नहीं। पुलिस ने अवैध माइनिंग के विरुद्ध जिले में एक्साइज विभाग के साथ मिलकर 4 बड़े नाके लगाए हैं।

 

बातचीत करते हुए जिला पुलिस प्रमुख राजबचन सिंह संधू ने कहा कि पुलिस को देर रात्रि सूचना मिली थी कि कीरतपुर की ओर से 15 ट्रक-टिप्पर अवैध माइनिंग का मैटीरियल लेकर जा रहे हैं। पुलिस ने तुरंत उन्हें हिरासत में ले लिया और उनके सभी दस्तावेजों की जांच की गई व साथ ही माइनिंग अधिकारियों को भी बुलाया गया। जांच के बाद पता चला कि ये सभी टिप्पर वैध थे और स्टोन क्रशरों से रेत-बजरी आदि लेकर जा रहे थे। उन्होंने कहा कि जिले में अवैध माइनिंग को रोकने के लिए मोरिंडा-लुधियाना हाईवे, रूपनगर-चंडीगढ़ हाईवे (सोलखियां) घनौली तथा कलमां मोड़ (नूरपुरबेदी) पर विशेष पुलिस नाके लगाए गए हैं जो दिन-रात कार्य कर रहे हैं।

 

संधू ने कहा कि जिले में अवैध माइनिंग को लगभग समाप्त कर दिया गया है और स्थिति पर पुलिस नजर रखे हुए है। एक प्रश्न के उत्तर में उन्होंने कहा कि रूपनगर में गत दिनों जो चोरियों हुई थीं, उन सभी के सुराग लगा लिए गए हैं और शीघ्र ही सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि रूपनगर में ट्रैफिक कंट्रोल करने के लिए ट्रैफिक एडवाइजरी कमेटी बनाई जा रही है।