जर्मन खुफिया एजैंसी का उत्तर कोरिया को लेकर खतरनाक खुलासा

प्योंगयांग: जर्मनी की खुफिया एजैंसी ने उत्तर कोरिया को लेकर खतरनाक खुलासा किया है। खुफिया एजैंसी चीफ ने दावा किया है उत्तर कोरिया न्यूक्लियर वेपंस प्रोग्राम के लिए टेक्नोलॉजी और सामग्री अपने बर्लिन दूतावास से प्राप्त करता है। जर्मनी खुफिया एजेंसी के चीफ हंस जॉर्ज मास्सेन ने कहा कि बर्लिन दूतावास से कई गतिविधियों को नॉटिस किया गया है। जर्मनी के न्यूज चैनल को दिए इंटरव्यू में मास्सेन ने कहा, ‘हमें लगता है कि वे मिसाइल प्रोग्राम ही नहीं, बल्कि न्यूक्लियर प्रोग्राम की भी मदद लेते थे।’ यूएन प्रतिबंधों के बावजूद नॉर्थ कोरिया लगातार अपने न्यूक्लियर प्रोग्राम को जारी रखने की धमकी दे चुका है। नागरिक व सैन्य उपयोग के लिए टेक्नोलॉजी ले रहा है नॉर्थ कोरिया हालांकि, वेपंस टेक्नोलॉजी की सटीक जानकारी को स्पष्ट नहीं किया गया है, लेकिन खुफिया प्रमुख का मानना है कि नॉर्थ कोरिया ने नागरिक और सैन्य उपयोग के लिए टेक्नोलॉजी हासिल कर रहा है। मास्सेन ने कहा कि जब हमने बर्लिन दूतावास में इस प्रकार की गतिविधियों को देखा, तो हमने उन्हें रोका भी, लेकिन हम इसकी गारंटी नहीं लेते कि यह ऐसा अभी भी हो रहा है या नहीं। जर्मनी खुफिया एजेंसियों ने 2014 में भी कहा था कि नॉर्थ कोरियाई डिप्लोमेट केमिकल वेपंस तैयार करने की टेक्नोलॉजी हासिल कर चुके हैं।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*