चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग के आजीवन सत्ता में बने रहने का रास्ता साफ

बीजिंग – चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग के आजीवन सत्ता में बने रहने का रास्ता साफ हो गया है। चीन की संसद ने रविवार को राष्ट्रपति के दो कार्यकाल की सीमा को खत्म करने वाले ऐतिहासिक संविधान संशोधन को मंजूरी दे दी। चिनफिंग अब चीन की कम्युनिस्ट पार्टी के संस्थापक चेयरमैन माओत्सेतुंग के बाद आजीवन सत्ता में बने रहने वाले पहले चीनी नेता होंगे। चीन की संसद नेशनल पीपुल्स कांग्रेस (एनपीसी) ने राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति के कार्यकाल की सीमा खत्म करने के सीपीसी के प्रस्ताव को मंजूरी दी। इसके पक्ष में 2,958 वोट पड़े जबकि विरोध में दो वोट। तीन लोगों ने मतदान में हिस्सा नहीं लिया। संभवत: विविधता दिखाने के लिए विरोध में दो वोट को आधिकारिक तौर पर मंजूरी दी गई थी। मतदान में हाथ उठाने या इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन के बजाय मतपत्र का इस्तेमाल किया गया। सबसे पहले चिनफिंग ने मतदान किया। चीन की संसद को रबर स्टांप माना जाता है जिसका काम सीपीसी के प्रस्ताव को केवल मंजूरी देना भर है। सीपीसी की शीर्ष समिति ने कार्यकाल सीमा खत्म करने का एकमत से प्रस्ताव किया था।