केन्द्र व पंजाब सरकार की नीतियों के खिलाफ लगाया धरना

जालंधर : ऑल इंडिया किसान संघर्ष को-आडिनेशन कमेटी के आह्वान पर देश भगत यादगार हाल में धरना प्रदर्शन किया गया जिसमें बड़ी तादाद में किसानों व मजदूरों ने हिस्सा लेकर केन्द्र व पंजाब सरकार की नीतियों की जमकर आलोचना की। इस मौके पर सम्बोधित करते हुए वक्ताओं ने कहा कि केन्द्र सरकार ने सत्ता में आने से पहले वायदा किया था कि काला धन वापस लाएंगे और 15 लाख रुपए प्रत्येक के अकाऊंट में आएंगे, लेकिन काला धन तो वापस नहीं आया इसके विपरीत माल्या व मोदी जैसे उद्योगपति करोड़ों रुपए का घोटाला करके विदेश भाग गए।  को-आडिनेशन कमेटी के कन्वीनर यू.पी. के पूर्व विधायक बी.एम. सिंह ने कहा कि किसानों का कर्ज माफ करने का केन्द्र ने वायदा किया था लेकिन किसानों का कर्ज माफ नहीं हो पाया जिसके चलते देशभर में & लाख के करीब किसानों ने खुदकुशी कर ली। महाराष्ट्र से लोकसभा मैंबर राजू शैट्टी ने कहा कि जी.एस.टी. के कारण किसान मर रहा है क्योंकि खेती में इस्तेमाल होने वाली मशीनरी की खरीद के लिए किसानों पर भारी बोझ पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि केन्द्र ने बड़े घरानों को लाभ देने में कोई कसर नहीं छोड़ी। स्वामीनाथ कमीशन की सिफारिशों को लागू करने की मांग रखते हुए उन्होंने कहा कि केन्द्र ने इसे लागू करने का भरोसा दिलाया था लेकिन ऐसा नहीं हो पाया। शैट्टी ने कहा कि पूर्ण रूप से कर्ज माफी का मुद्दा वह लोकसभा में उठाएंगे व इसके लिए कई राजनीतिक पार्टियों से संपर्क करके सहयोग मांगा जाएगा।