अब बाढ़ और भूकंप के बारे में पहले मिल सकेगी जानकारी

म्यांमार – भारत ने म्यांमार में बाढ़ और भूकंप की प्रारंभिक चेतावनी के लिए सोमवार को नई प्रणाली शुरू की है। इसका उद्देश्य देश को प्राकृतिक आपदाओं के प्रभावों को कम करने में मदद करना है। म्यांमार टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, म्यांमार में भारत के राजदूत विक्रम मिश्री ने म्यांमार में लांग लीड फ्लड अर्ली चेतावनी प्रणाली और भूकंप निगरानी प्रणाली विकसित करने के लिए नई दिल्ली-वित्तपोषित इस परियोजना का उद्घाटन किया। ये प्रणालियां सरकार को आपदाओं के प्रभाव को कम करने के बारे में अधिक जानकारी प्रदान करती हैं जो हर साल लाखों लोगों को प्रभावित करती है।दूतावास द्वारा जारी एक बयान के मुताबिक, दोनों प्रणालियों को न्यू पाय टॉ में परिवहन और संचार मंत्रालय के मौसम विज्ञान और जल विज्ञान विभाग (डीएमएच) में रखा जाएगा। सिस्टम का परीक्षण और सत्यापन पहले ही हो चुका है। वे अब मौजूदा म्यांमार आपदा शमन प्रणाली के साथ पूरी तरह से एकीकृत हैं।